• Arjun Mehar

किसानी, धनरोपनी (धानरोपनी) और सलमान खान


सोशल मीडिया पर अभी सलमान खान के कुछ विडियो और फोटो देखें. जिनमें वो धान रोपते और खेती करते हुए दिख रहे हैं. ज़ाहिर है कि काफ़ी अच्छा शूट हुआ है और बॉलीवुड के दूसरे इन्फ्लुएंसर (Influnencer) कमेंट्स में काफ़ी तारीफ़ भी कर रहे हैं. एक रोमांच जैसा लग रहा है. हो सकता है कि कई लोगों को विडियो देख कर खेत में काम करने का मन होने लगे. एकदम फेसिनेट करने टाइप.



वीडियोज और फोटोज देखने के बाद मुझे अपने जीवन के अतीत का अनुभव याद आ गया है. हम उन दिनों नानीगाँव (ननिहाल) में रहते थे. नाना जी खुद ही खेत में काम करने वाले एक छोटे किसान थे. धान रोपने या आलू बोने जैसे वक़्त में हम सबको भी खेत में रहना होता था. किसी जुलाई की ही बात है शायद. हम धान रोपने से पहले खेत में पानी दे रहे थे कि अचानक बहुत तेज बारिश होने लगी. हम खेत में जुटे हुए थे, ऊपर बारिश और नीचे पानी. काफ़ी देर भीगने के बाद ठंड जैसा लगने लगा था. अभी बहुत साफ़ याद नहीं, लेकिन इतना याद है कि मैं रोने लगा था. मुझे साफ़-साफ़ वो दिन याद है, जब मैंने ख़ुद से कहा था कि "मुझे खेत में काम नहीं करना”!


वैसे मैं जब भी अपने नाना को हल पर चढ़े हुए देखता था तो बहुत डर जाता था, चिंता होती थी और अजीब-अजीब ख्याल आते थे. आज सलमान उसी हल पर चढ़ कर हीरो नज़र आ रहे हैं.


मुझे अपने नाना खेती करते हुए हीरो कभी नहीं लगे. हमेशा ही दूसरे लाखों किसानों की तरह ही एक मजबूर किसान लगे; जो कभी बारिश के भरोसे थे और कभी बाज़ार से सही दाम मिलने के भरोसे. आज नाना नहीं हैं लेकिन अभी हाल के वर्षों में बड़ा मन हुआ कि एक बार धान के खेत में फिर से जाऊँ.


वैसे नाना ने बाद के दिनों में खेती करना छोड़ दिया था. अब मेरे मन में भी ये धान की खेती, मिट्टी, पानी लगाना आदि रोमांच पैदा करने लगा है. एक अजीब Romanticism..! शायद अपने बीते दिनों को भूलने लगा हूँ इसलिए. लेकिन मैं अपने इस Romanticism पर लिखने से बचता हूँ. मुझे पता है अगर ऐसा करूँ तो शायद मैं एक किसान होने के स्ट्रगल को ख़त्म करूंगा और उसे कमजोर करूँगा.


धान रोपना, खेत की मिट्टी में सनना और फिर फसल का सही दाम न मिलना. कोई रोमांच नहीं है. अगर किसी के स्ट्रगल को कम नहीं कर सकते तो अपनी हिरोबाज़ी के चक्कर में इसको ग्लोरिफ़ाई मत करो.



(इस लेख को अविनाश चंचल ने लिखा है. अविनाश चंचल एक स्वतंत्र स्तंभकार, Social & Environmental Activist है और साथ में “सिंगरौली फाइल्स: कोयले से सुलगती जिंदगी” किताब के लेखक भी है.)


https://twitter.com/AvinashChanchal https://www.facebook.com/avinash.chanchal https://instagram.com/lonesome__traveler



55 views0 comments